जिला के बारे में

डिण्डौरी भारत के मध्यप्रदेश राज्य का एक ज़िला है । डिण्डौरी जिला मुख्या‍लय है । यहॉ पर कुल 927 गॉव है, डिण्डौरी जिले की स्थापना 25 मई 1998 में हुई थी। डिण्डौरी जिला, जबलपुर संभाग का एक हिस्सा है। डिण्डौरी जिला कुल 7470 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है और छत्तीासगढ राज्य की सीमा से लगे मध्यप्रदेश के पूर्वी भाग में स्थित है। यह उत्तर में उमरिया, पश्चिम में मण्डला, पूर्व में शहडोल से घिरा हुआ है और दक्षिण में छत्तीसगढ राज्य का बिलासपुर जिला है। गणितानुसार ज़िला, अंक्षाश 22.17N और 23.22N देशांतर 80.35E और 80.58E में है । जिले में सात विकासखण्ड है – डिण्डौरी, शहपुरा, मेंहदवानी, अमरपुर, बजाग, करंजिया एवं समनापुर ।

dindori map 1

2011 की जनगणनानुसार, डिंडौरी जिले की कुल आबादी लगभग 7,04,218 है। यह आबादी भूटान राष्ट्र या अलास्का(संयुक्त राज्य अमेरिका) के लगभग है। यह आकड़ा (640 जिलो की कुल मे से ) ज़िले को भारत में 501 की रेंकिग देता है। जिले की जनसंख्या घनत्व 94 निवासी प्रति वर्ग किलोमीटर है । दशक 2001-2011 में ज़िले की जनसंख्या वृद्धि दर 21.26% थी। डिण्डौरी में लिंगानुपात 1000 पुरूषो के मुकाबले 1004 महिलाये है और साक्षरता दर 65.47% है। कुल जनसंख्या का लगभग 64% अनुसूचित जनजाति के अंतर्गत आता है।

बैगा जनजाति जिले में बहुत ही प्रमुख जनजाति है। वे केवल इस जिले में ही देखे जा सकते है । बैगा जनजाति को राष्ट्रीय मानव के रूप में भी जाना जाता है।

DSC_0471 DSC_0209

डिंडोरी जिले में, मध्य प्रदेश का घुघवा जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान भारत में एक अद्वितीय गंतव्य है, जिसे पौधों के जीवाश्मों के अनमोल खजाने के ट्रोव से आशीर्वाद मिला है। 18 प्लांट परिवारों के 31 जेनेरा से संबंधित जीवाश्मों की पहचान की गई है। ये जीवाश्म जीवन का प्रतिनिधित्व करते हैं क्योंकि यह लगभग 66 मिलियन वर्ष पहले इस क्षेत्र में हुआ था। वुडी पौधों, पर्वतारोही, पत्ते, फूल, फल और बीज के अच्छी तरह से संरक्षित जीवाश्म यहां पाए गए हैं। पाम जीवाश्म विशेष रूप से असंख्य हैं। इस जिले में 66 मिलियन पुराने पौधे जीवाश्म पाए जाते हैं और घुघवा जीवाश्म पार्क में जीवाश्मों की रक्षा के लिए प्रयास किए जाते हैं।

Ghughwa1