इतिहास

डिण्डोरी जिले का गठन मंडला जिले से विभाजित होने के बाद 1998 में किया गया था इसीलिए जिले के इतिहास लेखन, मण्डला जिले के समान है। डिंडोरी का मूल नाम 1951 तक रामगढ़ था, जो मंडला की एक तहसील थी | बाद में, रामगढ़ का नाम डिण्डोरी के रूप में जाना जाने लगा । मौर्य, शुंग और कण्व  के बाद चालुक्य और चेदी राजवंशों के द्वारा मध्य भारत पर शासन किया। बाद में, हैहय वंश भी गढ़-मंडला में 875 ईस्वी से 1042 ईस्वी के लिए राज्य करता रहा |

1835 तक, मण्डला सिवनी की एक तहसील थी । 1851 में, मंडला को जिले का दर्जा दिया गया जिसमे रामगढ़ की भूमि मिला कर 18 तालुकें थी । 2089 गांवों में से 1039 गांवों सोहागपुर का हिस्सा बन गये और 1050 गांव रामगढ़ में बने रहे। अंग्रेजों से लड़ाई करते रामगढ़ के बहादुर रानी अवंतीबाई की मौत हो गई और मण्डला में 1857 के विद्रोह को दबा दिया गया। रामगढ़ का सोहागपुर क्षेत्र रीवा के राजा को सौंप दिया गया। शेष क्षेत्र डिण्डोरी तहसील के कब्जे में रही, जिसको  मिलाकर 22 मई 1998 को नया जिला बनाया गया।